May 29, 2024 3:55 am

May 29, 2024 3:55 am

Search
Close this search box.

झांसी: बड़े भाई ने धोख़ा देकर हड़प लिया सोना,चांदी और संपत्ति,परेशान होकर कारोबारी ने लगा ली फांसी। 

Riport -Tejas news live

झांसी उत्तर प्रदेश:: पारिवारिक संपत्ति विवाद का मुकदमा हारने से परेशान कारोबारी ने सोमवार देर-रात अपने घर में फांसी लगाकर जान दे दी। फांसी लगाने से पहले कारोबारी ने दो पन्नों का सुसाइड नोट लिखा जिसमें उसने अपनी मौत के लिए बड़े भाई, उसकी पत्नी, भतीजा को जिम्मेदार ठहराया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार कोतवाली के आंतिया तालाब लोहा मंडी निवासी अजीत गोयल उर्फ बंटू (52) वर्ष लगभग की प्रतिष्ठित कारोबारियों में गिनती होती थी। आंतिया ताल के बगल में उनका मार्बल और टाइल्स का शोरूम है। उनके बड़े भाई की दुकान भी पास में है। परिजनों का कहना है कि दोनों भाइयों के बीच पिछले काफी समय से दुकान,घर अन्य संपत्ति को लेकर विवाद चल रहा था।

वसीयत के आधार पर अजीत के भाई ने सारी संपत्ति अपने नाम करा ली थी। अजीत के ऊपर दुकान एवं घर खाली कराने का दबाव बनाया जा रहा था। अजीत ने वसीयत को फर्जी ठहराते हुए मुकदमा दायर किया था, लेकिन पिछले दिनों कोर्ट ने उसकी अपील खारिज कर दी। मुकदमा हारने से अजीत परेशान रहने लगे।

सोमवार शाम उनकी पत्नी अपने मायके गई थीं। रात में अजीत ने घर में फांसी लगा ली। रात में पत्नी घर लौटीं। दरवाजा खोलने के लिए आवाज लगाई, लेकिन बंटू अपने कमरे से बाहर नहीं निकले। काफी देर तक आवाज लगाने के बाद भी जब दरवाजा नहीं खुला तो पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस ने पहुंचकर दरवाजा तोड़ा। अंदर अजीत फांसी पर लटक रहे थे। पुलिस ने शव को नीचे उतारकर कब्जे में ले लिया। कोतवाल संजय गुप्ता ने कहा कि मामले की जांच की जा रही है।

मार्बल कारोबारी अजीत गोयल ने आत्मघाती कदम उठाने से ठीक पहले सुसाइड नोट लिखा था। सुसाइड नोट में उन्होंने अपने बड़े भाई पर धोखेबाजी का आरोप लगाते हुए पत्नी और बेटियों को न्याय दिलाने की मांग की। सुसाइड नोट में अजीत ने लिखा कि बड़ा भाई , उसकी पत्नी, भतीजा तीनों बेईमान हो गए।

परिजनों का कहना है अपील खारिज होने के बाद उनके ऊपर घर एवं दुकान भी तत्काल खाली करने का दबाव बनाया जा रहा था। अपने सुसाइड नोट में कारोबारी ने अपने रिश्तेदारों, एवं अन्य जानने वालों से पत्नी एवं बेटियों को न्याय दिलाने की गुहार लगाई है।

कारोबारी की मौत की सूचना मंगलवार सुबह शहर के लोगों को लगी। थोड़ी ही देर में उनके घर पर बड़ी संख्या में शहर के लोग जमा हो गयी। कारोबारियों का कहना है कि अजीत अक्सर अपने साथ हुए धोखेबाजी की बात करते थे लेकिन, यह आत्मघाती कदम उठा लेेंगे इसकी किसी को उम्मीद नहीं थी।

Leave a Comment

What does "money" mean to you?
  • Add your answer